Month: February 2017

एक कप चाय

बहुत दिनों बाद लौटा हूँ आज बरामदे में बैठा देख रहा हूँ वही पुराना शहर…